Essay on rani lakshmi bai for kids in hindi. रानी लक्ष्मी बाई पर निबंध 2022-10-10

Essay on rani lakshmi bai for kids in hindi Rating: 5,2/10 268 reviews

Symbols are an integral part of human communication, and they have been used throughout history to represent ideas and convey meaning. Symbols can be found in all forms of communication, including art, literature, music, and even everyday language.

One of the most well-known symbols is the cross, which is a powerful symbol of Christianity. It represents the sacrifice of Jesus Christ and is used as a reminder of his teachings and the importance of faith. Other religious symbols, such as the Star of David for Judaism and the crescent moon for Islam, serve a similar purpose.

Symbols can also be found in literature and art. For example, in Shakespeare's play "Romeo and Juliet," the rose is used to symbolize the love between the two main characters. In the novel "The Great Gatsby," the green light on the dock represents Gatsby's desire and hope for a better future. In paintings, symbols can be found in the objects depicted or in the way they are arranged. For instance, a snake wrapped around a staff is a symbol of medicine and healing in art.

In everyday language, symbols are used to represent concepts or ideas that are difficult to express in words. For example, the heart symbol is often used to represent love, and the peace sign is used to represent the concept of peace. In mathematics, symbols are used to represent numbers, quantities, and operations.

Overall, symbols are a crucial aspect of human communication and play a vital role in representing ideas and conveying meaning. They can be found in various forms of communication, including literature, art, music, and everyday language, and they provide a way for people to express complex ideas and concepts in a simple and easily understood way.

Rani Lakshmi Bai Essay for Students and Children

essay on rani lakshmi bai for kids in hindi

In 1851, she gave birth to Damodar Rao who died when he was just 4 months old. She is famous as a good ruler, intelligent communicator, and defender of the faith. Manu Bai or Manikarnika was born to Moropant Tambe and Bhagirathi Tambe on 19 th November 1828 at Kashi Varanasi. Rani Lakshmi Bai was an unforgettable warrior in the history of India. Unfortunately, the child died within four months of his birth because of chronic illness.


Next

Hindi Essay, Paragraph or Speech on “Jhansi ki Rani Laxmi Bai”, “झांसी की रानी लक्ष्मीबाई”Complete Essay, Speech for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

essay on rani lakshmi bai for kids in hindi

Ramachandra Rao, her loyal attendant immediately removed her body and lit the funeral pyre. She is famous as the Rani of Jhansi or as the renowned Queen of Jhansi. This battle was known as the very first war for Independence. Her name is thus written in golden letters in the history of India and will always stay in the heart of every Indian. In Jhansi, the revolt began on June 4, 1857, when Rani Lakhsmi Bai seized the Company's magazines and treasury.

Next

Essay on Rani Lakshmi Bai in Hindi

essay on rani lakshmi bai for kids in hindi

Manikarnika was displeased by this unfairness, and she pleaded in London Court. She thus learned horse-riding, sword fighting, and martial arts and mastered these. उत्तर:- लक्ष्मी बाई का विवाह सन 1842 में हुआ था। 3. The two mares were named Sarangi and Pavan. Lakshmi Bai had an unusual childhood for a Brahman girl, growing up in the family of Peshwa ruler Baji Rao II. को काशी में हुआ था। और लक्ष्मीबाई का पालन-पोषण बिठूर में हुआ था। प्रस्तावना:- जब वो चार-पांच शाल की थी, तब ही इनकी माँ का देहांत हो गया था। बचपन से ही वो पुरुषों के साथ ही खेलना-कूदना, तीर तलवार चलाना , घुड़सवारी करना , आदि करने के कारण उनके चरित्र में भी वीर पुरषों की तरह गुणों का विकास हो गया था। बाजीराव पेशवा ने अपनी स्वतंत्रता की कहानियों से लक्ष्मीबाई के ह्रदय में उनके प्रति बहुत प्रेम उतपन्न कर दिया था। लक्ष्मीबाई का विवाह:- सन 1842 ई.

Next

Rani Lakshmi Bai Essay for Students in English

essay on rani lakshmi bai for kids in hindi

She martyred on 18 th June 1858 at Kotah-ki-Serai in Gwalior. From her perspective, none of the sacrifices can be defined in clear language when it comes to the defense of the motherland. The countrywide revolt began on May 31, 1857, and it spread like wildfire. दुर्ग छीन लिया और सैन्य संगठन में जुट गई । कुछ ही दिनों बाद इनका पता ह्यू रोज को लग गया। वह अपमान का बदला लेने के लिए विशाल सेना के साथ वहां पहुंच गया। गति रानी लक्ष्मीबाई ने रणचण्डी बनकर अंग्रेजों से लोहा लिया। घोड़े पर सवार रानी के मुख में लगाम थी, दोनों हाथों में तलवार थी और पीछे पीठ पर दामोदर राव को बांध रखा था। रानी अधिक देर तक विशाल सेना का सामना न कर सकी। घायलावस्था में विवश होकर घोड़ा दौड़ना पड़ा। दो अंग्रेज इनका पीछा कर रहे थे। घोड़ा नया होने के कारण नाले पर पहुंच कर रुक गया। इस विवशता में रानी ने उन दोनों अंग्रेजों का सामना किया। उन्हें मार कर स्वंय भी बेदम हो गई। पास में ही साधु की कुटिया थी। उसने रानी का दाह संस्कार कर दिया। ———————————— इस लेख के माध्यम से हमने Rani Laxmi Bai Par Nibandh Essay on Rani Lakshmi Bai in Hindi का वर्णन किया है और आप यह निबंध नीचे दिए गए विषयों पर भी इस्तेमाल कर सकते है।. Varanasi is the place she belongs to, popularly called Kashi. Eventually the British recaptured the fort by betrayal. She was a beautiful, intelligent and brave girl.

Next

10 lines Jhansi Rani Lakshmi Bai Essay in Hindi

essay on rani lakshmi bai for kids in hindi

The terrible battle struck almost for a week, and the Queen of Jhansi stood well against the Britishers. She fell from the horse and collapsed on the ground. On 20 th March 1958, the British sent a massive force under Sir Hugh Rose in order to recapture Jhansi. The revolt soon spread to Delhi, Lucknow, Kanpur, Allahabad, Punjab, and other parts of the country. उत्तर:- झांसी से निकलकर रानी लक्ष्मीबाई कपिल नामक क्षेत्र में पहुंची।.

Next

Rani Laxmi Bai In Hindi Essay

essay on rani lakshmi bai for kids in hindi

In the battle, she fought bravely and with gallantry heroism. Mutiny of 1857 However, in 1857 there broke out the first war of Indian Independence. Quite naturally, since it was the rule already imposed, all her attempts proved futile. After the petitions went unaccepted by the British Government or the East India Company, war broke out in 1857. After the death of her mother, Manu Bai and her father shifted to Bithoor and started living with Peshwa Baji Rao. But, unfortunately, Gangadhar Rao died soon due to illness and Lord Dalhousie, the then Governor-General of India denied this adoption. The command of the revolutionary forces was taken by Manikarnika on 7th June 1857 and took the fort.

Next

रानी लक्ष्मी बाई पर निबंध

essay on rani lakshmi bai for kids in hindi

The revolt's original date was set on 31st May 1857, but people were already emotionally charged, restive, and impatient against the Britishers' exploitations. For many individuals, she is an inspiration and a source of admiration. She martyred herself in a struggle to attain Swaraj and liberate the Indians from the British rule. She used to have a good time playing with Rao Sahib, Nana Sahib, Tantia Tope, and other boys who came to Peshwa's court. Thus, in 1853, Gangadhar Rao adopted a child and named him after his son, Damodar Rao.

Next

Rani Laxmi Bai Essay In Hindi

essay on rani lakshmi bai for kids in hindi

झासि को आजादी दिलाने के बढ़ लक्ष्मीबाई कहा गई? प्रस्तावना : भारतीय वसुंधरा को गौरवान्वित करने वाली झांसी की रानी वीरांगना लक्ष्मीबाई वास्तविक अर्थ में आदर्श वीरांगना थीं। सच्चा वीर कभी आपत्तियों से नहीं घबराता है। प्रलोभन उसे कर्तव्य पालन से विमुख नहीं कर सकते। उसका लक्ष्य उदार और उच्च होता है। उसका चरित्र अनुकरणीय होता है। अपने पवित्र उद्देश्य की प्राप्ति के लिए वह सदैव आत्मविश्वासी, कर्तव्य परायण, स्वाभिमानी और धर्मनिष्ठ होता है। ऐसी ही थीं वीरांगना लक्ष्मीबाई। संघर्ष : 27 फरवरी 1854 को लार्ड डलहौजी ने गोद की नीति के अंतर्गत दत्तकपुत्र दामोदर राव की गोद अस्वीकृत कर दी और झांसी को अंगरेजी राज्य में मिलाने की घोषणा कर दी। पोलेटिकल एजेंट की सूचना पाते ही रानी के मुख से यह वाक्य प्रस्फुटित हो गया, 'मैं अपनी झांसी नहीं दूंगी'। 7 मार्च 1854 को झांसी पर अंगरेजों का अधिकार हुआ। झांसी की रानी ने पेंशन अस्वीकृत कर दी व नगर के राजमहल में निवास करने लगीं। यहीं से भारत की प्रथम स्वाधीनता क्रांति का बीज प्रस्फुटित हुआ। अंगरेजों की राज्य लिप्सा की नीति से उत्तरी भारत के नवाब और राजे-महाराजे असंतुष्ट हो गए और सभी में विद्रोह की आग भभक उठी। रानी लक्ष्मीबाई ने इसको स्वर्णावसर माना और क्रांति की ज्वालाओं को अधिक सुलगाया तथा अंगरेजों के विरुद्ध विद्रोह करने की योजना बनाई। विद्रोह :भारत की जनता में विद्रोह की ज्वाला भभक गई। समस्त देश में सुसंगठित और सुदृढ रूप से क्रांति को कार्यान्वित करने की तिथि 31 मई 1857 निश्चित की गई, लेकिन इससे पूर्व ही क्रांति की ज्वाला प्रज्ज्वलित हो गई और 7 मई 1857 को मेरठ में तथा 4 जून 1857 को कानपुर में, भीषण विप्लव हो गए। कानपुर तो 28 जून 1857 को पूर्ण स्वतंत्र हो गया। अंगरेजों के कमांडर सर ह्यूरोज ने अपनी सेना को सुसंगठित कर विद्रोह दबाने का प्रयत्न किया। लक्ष्मीबाई पहले से ही सतर्क थीं और वानपुर के राजा मर्दनसिंह से भी इस युद्ध की सूचना तथा उनके आगमन की सूचना प्राप्त हो चुकी थी। 23 मार्च 1858 को झांसी का ऐतिहासिक युद्ध आरंभ हुआ। कुशल तोपची गुलाम गौस खां ने झांसी की रानी के आदेशानुसार तोपों के लक्ष्य साधकर ऐसे गोले फेंके कि पहली बार में ही अंगरेजी सेना के छक्के छूट गए। उन्होंने नाना साहब और उनके योग्य सेनापति तात्या टोपे से संपर्क स्थापित किया और विचार-विमर्श किया। रानी की वीरता और साहस का लोहा अंगरेज मान गए, लेकिन उन्होंने रानी का पीछा किया। रानी का घोड़ा बुरी तरह घायल हो गया और अंत में वीरगति को प्राप्त हुआ, लेकिन रानी ने साहस नहीं छोड़ा और शौर्य का प्रदर्शन किया। कालपी में महारानी और तात्या टोपे ने योजना बनाई और अंत में नाना साहब, शाहगढ़ के राजा, वानपुर के राजा मर्दनसिंह आदि सभी ने रानी का साथ दिया। रानी ने ग्वालियर पर आक्रमण किया और वहां के किले पर अधिकार कर लिया। विजयोल्लास का उत्सव कई दिनों तक चलता रहा लेकिन रानी इसके विरुद्ध थीं। यह समय विजय का नहीं था, अपनी शक्ति को सुसंगठित कर अगला कदम बढ़ाने का था। उपसंहार : सेनापति सर ह्यूरोज अपनी सेना के साथ संपूर्ण शक्ति से रानी का पीछा करता रहा और आखिरकार वह दिन भी आ गया जब उसने ग्वालियर का किला घमासान युद्ध करके अपने कब्जे में ले लिया। रानी लक्ष्मीबाई इस युद्ध में भी अपनी कुशलता का परिचय देती रहीं। 18 जून 1858 को ग्वालियर का अंतिम युद्ध हुआ और रानी ने अपनी सेना का कुशल नेतृत्व किया। वे घायल हो गईं और अंततः उन्होंने वीरगति प्राप्त की। रानी लक्ष्मीबाई ने स्वातंत्र्य युद्ध में अपने जीवन की अंतिम आहूति देकर जनता जनार्दन को चेतना प्रदान की और स्वतंत्रता के लिए बलिदान का संदेश दिया।. Rani Lakshmi Bai is a glorious example of patriotism and national pride. She is an icon known for her bravery. It was 1857 when the queen showed her heroism and valour, rising with a rebellion against Britishers. She gave birth to a son in the year 1851, whose name was Damodar Rao. Rani and the Policy of Doctrine of Lapse According to the Policy of Doctrine of Lapse, the British annexed all those states that did not have a legal heir to the throne.

Next